12 दिसंबर 2011

वेदना

वो दिल भी क्‍या जो तुमसे मिलने की दुआ न करे
मै तुमको छोउ के जिन्‍दा रहू खुदा न करे ।
रहेगा साथ तेरा प्‍यार जिनदगी बनकर
ये बात और मेंरी जिन्‍दगी वफा न करे
फलक पे आये सितारे तेरी सुरत बन के
 ये रात बीत न जाये कोर्इ दुआ न करे
 जमाना देख चुका है परख तुका है हमे
यतीम जान के काबे में इल्‍तजा न करे
हॅु खुसनसीब जो पाई है जुदाई तेरी
हमारी याद कभी तुमको बमजदा न करे








प्रतिक्रियाएँ:

0 टिप्पणियाँ:

Share

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More