12 दिसंबर 2011

यादे

आप आये मेंरी यादो में खुदा खैर करे
नीद आती नही रातो में खुदा खैर करे
दिल के जजबात ने अंगडाई ली ऑसू बनकर
एक तुफान उठा आज खुदा खैर करे
बेवसी मन में उठी ऐसी दबाये न दबे
दिल ने फिर कर दिया फरियाद खुदा खैर करे
याद आये अब तेरी शीर्फ हकीकत बन कर
ख्‍वाबो ने कर दिया इनकार खुदा खैर करे










प्रतिक्रियाएँ:

0 टिप्पणियाँ:

Share

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More