12 दिसंबर 2011

दर्द

खत डालिए हुजुर को आदाब बोलिए
आप आ रहे हैं आज बहुत याद बोलिए
तनहाई भरे दर्द का एहसास क्‍या लिखे 
आप अपने ही जख्‍मो की बस फरियाद बोलिए 
गर दर्द दबाये न दबे वेवफा है वो 
बस दर्द में डुबी हुयी एक बात बोलिए 
दर्द हद से गुजर जायेगा पानी बनकर 
अपने ऑखो में बसे दर्द की इबरात बोलिए  

प्रतिक्रियाएँ:

0 टिप्पणियाँ:

Share

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More